” बे-असर नही थे हम “
आपने कभी लबो से ईनकार न कीया
वरना ईतने सितमगर नही थे हम

              भटकते रहे युही यादोकी दास्ता लीए
              साथ अपने मंजीलेकारवा रास्ता लीए
            तलाश मे खुदकी कोई मुसाफर नही थे हम

  सो सो बार आये हम उनकी निगाह मे
यकीनन कुच तो फर्क है उनकी चाह मे
या तो वो कम देखते हे वरना किधर नही थे हम

                                

                            नझ्म निकली गजल गुजरी गीत गुनगुनाया
                            फिर भी दिलोकी महेफिल मे सन्नाटा रहा छाया
                             क्यु ? गम-ए-दिल इतने तो बे-असर नही थे हम